There was an error in this gadget

Sunday, June 5, 2011

जुकाम स्वत: ठीक होने वाला रोग है !!!

        " मैं तो इस जुकाम से परेशान हो गया हूँ . तीन दिन नाक ठीक रहती है , फिर वही जुकाम , कई दिनों से यह चक्कर चल रहा है , न तो दफ्तर में नीचे गर्दन कर काम किया जाता है , इसीलिए दफ्तर में भी ठीक तरह से नहीं बैठ सकता ."
 यह कोई अनहोनी स्थिती  नहीं है. अकसर लोगों को यह शिकायत रहती है . जुकाम स्वत: ठीक होने वाला रोग है ., जो की अधिकतर वातावरण के तापमान में अंतर के कारण होता है , अन्यथा यह वायरस की  बीमारी है , जो उपरी श्वास तंत्र के संकर्मण के कारण से भी हो जाती है . जिससे  खाश तकलीफ : खांशी , गले में खराबी , नाक का बहना या रूक जाना और छींके आना प्रमुख हैं . करीब २०० से अधिक वायरसों के कारण जुकाम होता है , इनमें से राइनो वायरस ३० से ३५ % रोगीओं में जिम्मेवार होता है , अन्य वायरस कोरोना , एडिनो और परा इन्फ़्लुएन्ज़ा  वायरस इत्यादि ..
वायरस इतने ज्यादा हैं की जिनकी वजह से हमारा शरीर इन वायरसों के विरुद्ध , प्रतिरोधक  बल पैदा नहीं कर पाता . इसीलिए यह बीमारी बार बार हो जाती है .
आमतौर पर बच्चों में एक साल में जुकाम १० से १२ बार हो जाता है . सामान्यत : सर्दियों में जुकाम ज्यादा होता है .
जुकाम में से निकलने वाले पदार्थ या स्त्राव को छूने , हवा में फैलाने  से और उसे किसी अन्य द्वारा हवा के माध्यम से , मसलन छींकने और खांसने से यह रोग , फैलता जाता है .
जुकाम से गर्सित रोगी संवय अपने हाथ आँखों के लगा ले या फिर इस रोग से गर्सित रोगी द्वारा छुई , हुई वस्तु को छू ले , तो भी यह वायरस दुसरे वयक्ति को जुकाम हो जायेगा . 
जुकाम का पता संकर्मण  होने के २ से ४ दिन के बाद लगता है . 
प्रमुख दिकतें , जो जुकाम से होती हैं , वे इस प्रकार हैं :-
  • नाक का रूक जाना या बहना 
  • गले में खराश 
  • छींकना 
  • आवाज़ में भारीपन 
  • खांशी 
  • आँखों से पानी का गिरना 
  • बुखार 
  • सीरदर्द
  • थकावट , इत्यादि .
जुकाम किसी भी गंभीर बीमारी से अधिक परेशां कर देता है . उपचार से बचाव ज्यादा कारगर है . फिर भी मरीज़ को आराम करना चाहिए .
प्रचुर मात्रा में पानी पीना चाहिए , खाश कर बच्चों को , गरारे गुनगुने पानी के करने चाहियें , एलर्जी   से बचाव के लिए डॉक्टर की सलाह पर किसी दर्द निवारक दवा का सेवन कर सकते हैं . वर्ना जुकाम स्वत : ही ठीक होने वाला रोग है . 
  

14 comments:

Dr_JOGA SINGH KAIT "JOGI " said...

dr.saheb zukam ke baare m malumati jankari ke liye thanx,ek nusakha likh raha hun 15 mint m zukam ka kaam tamam hota hai "suhage ka fula bana kar garm paani m ghol kar pee len

श्रीमती कामिनी शर्मा , जयपुर said...

डॉ. मुकेश राघव जी , जुकाम के बारे में काफी अच्छी जानकारी के लिए धन्यवाद . मेरे काफी समय से जुकाम था , अब मेरी उम्र ४८ वर्ष है और जुकाम के कारन मुझे Sinus की बीमारी हो गयी है . एक्स रे भी करवाया था . डॉक्टर ऑपरेशन की सलाह दे रहें हैं . मुझे ऑपरेशन करवाना चाहिए या नहीं , इस बारे में मुझे उचित मार्ग दर्शन करें .

Dr. Reetu raj , Chandigarh said...

Dr. Raghav, I appreciate the blog and conyents particularly common cold and Fibroid uterus. Both are useful for the women in general
Regards

Dr. Tinda,J.H said...

Dr. Mukesh Raghav, Being a gynaecologist ,writting on the other topics of health, a flag on our faculty. A very nice article and presentation.
A good blog.
Thanks

श्रीमती सुदर्शन मालवीय , जयपुर said...

डॉ. मुकेश राघव जी, सादर निवेदन है की आपका ब्लॉग देख कर मन में , छुपा लेखकीय भाव , आप तक पहुँचने को लालायित है . आप का सहयोग अनिवार्य है . अपने ब्लॉग की तरह मेरा भी ब्लॉग बनवा दें , बढ़ी मेहरबानी होगी .
सादर

Smt.Neha Kaushal , Bombay said...

Dr. Mukesh, In a very simple and useful language , you have forced me to understand the things. a nice deed., for a nobel cause.
Thanks.

श्रीमती प्रभज्योत कौर said...

डॉ. राघव साहिब , आप द्वारा प्रस्तुत जुकाम और रसोली के बारे में दी गई जानकारी काफी जन उपयोगी है.
धन्यवाद

श्रीमती श्रुति अग्रवाल , जोधपुर said...

डॉ. मुकेश जी , आप के आलेख इतने ज्ञानवर्धक होतें हैं, कि मैं अपने परिवार जनों को भी यह आलेख पढाती हूँ . कृपया हम पाठको के लिए लिखते रहें ??
सादर

श्रीमती कपिला घोष said...

डॉ. मुकेश राघव , मुझे जुकाम ने इस कदर जकढ़ रखा है की जीवन दुस्वार हो गया है . आज एक डॉक्टर साहिब के पास गया था , कह रहें हैं . तुम्हें सायनुस है . ऑपरेशन करवाना पड़ेगा . आप की आज्ञा हो तो आदेश करें वर्ना कोई अन्य उपाय से अवगत करवाएं .
धन्यवाद .

मुकुल सिंह , जयपुर said...

डॉ. साहिब , आप ने जो हिंदी में आम जन के लिए स्वास्थ्य विषयों पर रचनाओं की प्रस्तुती की है . आम जन के लिए काफी उपयोगी हैं . बहुत बहुत धन्यवाद

डॉ. बी . के . कौशिक said...

डॉ. राघव जी , आपके स्वास्थ्य सम्बन्धी आलेख काफी अच्छे हैं . स्वास्थ्य के क्षेत्र में हिंदी भाषा में इस ब्लॉग और जानकारी के लिए आप साधुवाद के पात्र हैं .

श्रीमती कुसुम मीणा said...

डॉ. राघव , आपका जनउपयोगी ब्लॉग जिसमे हिंदी भाषा में स्वास्थिया से सम्बंधित सामग्री का समावेश है . , ऐसे ब्लॉग की रचना हिंदी भाषा में होने से काफी लाभ दायक है .
धन्यवाद

मुकुल वासनिक said...

डॉ. मुकेश राघव , आपकी स्वास्थिया विषय पर आलेख पढ़े . काफी ज्ञानवर्धक हैं . कृपया लिखते रहें , जिससे हम पाठकों को स्वस्थ रहने के तरीके पता लगते रहें . धन्यवाद

anjeev pandey said...

जुकाम के संबंध में अच्छी जानकारी देने के लिए साधुवाद... चिकित्सा से संबंधित जानकारी हिंदी उपलब्ध कराने का आपका प्रयास प्रशंसनीय है.